SEO in Hindi? SEO Kya Hai? 100+ Best Tips

SEO in Hindi – अगर आप बहुत ही मेहनत करके, जगह-जगह research करके, अपने ब्लॉग के लिए एक अच्छा और unique content लिख रहें हैं, लेकिन तब भी आपके ब्लॉग पर views या traffic नहीं आ रहा है, तो इसका मतलब यह है कि आप SEO ढंग से नहीं कर रहे हैं।

क्या???

आप जानते ही नहीं कि SEO Kya Hai?

आपने SEO का नाम पहली बार सुना है?

आपके मन के भीतर यह सवाल चल रहा है कि SEO kya hai?

तो चिंता किस बात की, आज के इस आर्टिकल का मकसद ही आपको SEO सीखाने का है।

इस आर्टिकल को पढ़ते ही आप SEO के बारे में A to Z सब जान जाओगे।

इस आर्टिकल में हम चर्चा करेंगे कि SEO क्या है? SEO क्यों जरूरी है? और इसके बारे में सब कुछ जानेंगे।

तो चलिए जानते हैं- What is SEO in Hindi

Read Also = पीएचडी क्या है? कैसे करे पूरी जानकारी हिंदी में

What is SEO in Hindi ?

SEO का full form होता है Search Engine Optimisation.

SEO की मदद से हम अपने ब्लॉग को अपने मनचाहे keywords पर गूगल के first page पर rank करा सकते हैं।

अब आपको यह तो पता ही होगा कि गूगल के first page पर अपने ब्लॉग को rank करना कितना जरूरी है-

और ऐसा करने के कितने सारे फायदे हैं- इससे आपके ब्लॉग पर ज़्यादा से ज़्यादा visitors आएंगे, आपके द्वारा लिखा गया content ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुंचेगा, आपके users बढ़ेंगे, आपकी website या ब्लॉग पर traffic की भरमार होगी, आपकी site की authority बढ़ेंगी, और आपकी income यानी कि earning दिन-दुगनी और रात चौगुनी हो जाएगी।

लेकिन…..लेकिन……लेकिन….

यह सब कर पाना इतना आसान नहीं है। यह सब करने के लिए सबसे पहले SEO को अच्छी तरह से सीखना होगा और इसमें expert बनना होगा ।

और इन सब से पहले आपको SEO को समझना होगा कि यह होता क्या है और आप इसे कैसे सीख सकते हैं।

SEO एक ऐसी तकनीक या कहें कि skill है जिससे आप अपने ब्लॉग के आर्टिकल या content को ठीक तरीके से optimise करके किसी भी सर्च इंजन के टॉप पेज पर टॉप रैंक करवा सकते हैं।

Read Also = Tamilrockers New Link

यह जो हमारा आर्टिकल आप पढ़ रहे हैं, इसे आप तक पहुंचाने के लिए SEO की सहायता ली गयी है ।

SEO क्यों जरूरी होता है?

एक रिसर्च से सामने आया है कि internet पर प्रत्येक दिन लगभग 50 लाख पोस्ट पब्लिश होती हैं, ऐसे में आपके द्वारा लिखी गयी पोस्ट का इस content के महासागर में खो जाना लगभग तेय है ।

केवल SEO ही एक ऐसा सहारा है जिससे आप अपने विचारों को लोगों तक पहुंचाने में सक्षम हो सकते हैं। SEO की मदद से ही आप अपने आर्टिकल को टॉप में रैंक करा सकते हैं।

आपका content चाहें कितना भी अच्छा और लम्बा हो, लेकिन बिना SEO के वो इस महासागर में कभी नहीं उभर पायेगा और आपकी मेहनत इसी महासागर में डूब जाएगी।

अगर आपने अपना content SEO-Friendly लिखा है तो Google या बाकी Search Engines के crawlers या robots के लिए आपके blog या वेबसाइट को समझना आसान होता है.

जिससे Google को यह पता चल जाता है कि आपका blog किस बारे में हैं और फिर वो इसे अपने database में स्टोर कर लेता है और जब भी कोई इंटरनेट पर कोई keyword सर्च करता है, तो अगर आपने उस keyword पर कोई आर्टिकल लिखा है और उसपर अच्छे से SEO किया है तो Google आपके post को टॉप में दिखाएगा जिससे आपको traffic मिलेगा।

अब तो शायद आप जान गए होंगे कि आखिर SEO करना कितना जरूरी है और अगर आप नहीं करेंगे तो आपको कितना नुकसान होगा

Read Also = Rich Dad Poor Dad PDF in Hindi

चलिए जानते हैं SEO के बारे में और बातें-

Types of SEO in Hindi – SEO के प्रकार

SEO एक बहुत ही बढ़ी फील्ड है, इसका अनुमान इसी बात से किया जा सकता है कि अमेरिका में SEO का मार्किट 2020 में लगभग 6 बिलियन डॉलर का है।

SEO के बारे में जाना बहुत ही ज़रूरी है अगर आप भी DIGITAL MARKETING में अपना Career बनाना चाहते हैं तो.

SEO – इसके मुख्यतः 3 प्रकार होते हैं-

  1. On-Page SEO
  2. Off-Page SEO
  3. Technical SEO

यह तीनों ही SEO के सबसे ज़रूरी हिस्से हैं, अगर आपने इन तीनो पर अच्छी पकड़ बना ली तो आपको आपकी site या ब्लॉग को first पेज पर top rank करने से कोई नही रोक सकता।

चलिए इन तीनों को अच्छे से जानते हैं – What is SEO in hindi

On-Page SEO in Hindi

On-Page एक ऐसी तकनीक है जिसमें आपको केवल अपने आर्टिकल या ब्लॉग में ही काम करना होगा । इसके लिए आपको किसी दूसरी वेबसाइट पर निर्भर नहीं करना होगा. इसका मतलब की यह पूरी तरह से आपकी ही पकड़ में होगा और इसे बेहतर तरीके से करना आपके Blog को एक अच्छी रैंकिंग प्राप्त करा सकता है।

अगर आप यह अच्छे से सीख जाते हैं और फिर आप इसे अच्छे तरीके से करते हैं और अपने blog पर apply करते हैं तो आपको और किसी भी तरह के SEO को करने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी।

चलिए जानते हैं कि On-Page SEO कैसे किया जाता है-

On-Page SEO कैसे करें?

बहुत सारे factors होते हैं, इनमे से कुछ हैं-

  1. Title tag
  2. Meta description
  3. Keyword research
  4. Content
  5. Image optimization
  6. Post URL ( PERMALINK/SLUG )
  7. Readability

आइये इन सबके बारे में विस्तार से जानते हैं, की यह सब होते क्या हैं और इन्हें कैसे किया जा सकता है

1. Title Tag :

आपके आर्टिकल का title एकदम अच्छे से लिखा होना चाहिये। अपने title को इस तरह लिखिए की यह एकदम attractive और catchy लगे। जो भी visitor हो, वो आपके टाइटल को पढ़ते ही इस पर क्लिक करें।

इससे आपका CTR भी improve होगा और आपके site को एक अच्छा boost मिलेगा।

यह बात जरूर ध्यान रखें कि आपका title ज़्यादा बढा न हो, आपके टाइटल की लेंथ ज़्यादा से ज़्यादा 75 characters की होनी चाहिए।

Title की लेंथ भी आपके SEO पर असर डालती है। इसलिए अपने title को अच्छा और attractive बनाएं, जिससे ज़्यादा से ज़्यादा users उसको पढ़ते ही उसपर click करने का मन करे।

आप अपने Title में action words का भी use करें जैसे- Best, Top, Unique etc.

अगर आपके title में कोई नम्बर भी है, तो कोशिश करिये की उसे title में सबसे पहले लिखें, अगर वो नम्बर odd nmber जैसे कि 5,7,9,11 etc. का उसे करने क्योंकि एक research से सामने आया है कि odd नम्बर even नम्बर से ज़्यादा attractive होते हैं।

Read Also = PHP in Hindi

2. Meta Description :

 इसमें आपको अपने article के बारे में एक short डिस्क्रिप्शन देनी पड़ती है।

आपको इसमे अपने main keyword का इस्तेमाल करना चाहिए जिससे आपका SEO अच्छा होगा।

ध्यान रखें कि meta description की length भी ज़्यादा लम्बी न हो,

इसे लगभग 100 से 150 characters का ही रखें।

Title की तरह ही आपको इसे भी attractive और eye-catchy रखिये, इससे आपको SEO में मदद मिलेगी, ज़्यादा visitors आपकी साइट पर आएंगे।

3.  Keyword research :

आपको अपने article के लिए एक अच्छा सा keyword ढूंढना चाहिए जो कि आपके आर्टिकल के लिये एकदम relevant हो।

अगर आपका blog नया है तो आपको एक low competetive और longtail keyword का इस्तेमाल करना चाहिए, इससे आप जल्दी रैंक कर सकते हो।

आप अपने पोस्ट को SERP में टॉप पर रैंक कराने के लिए अपने main keywords के साथ LSI keywords का भी उपयोग कर सकते हैं। LSI कीवर्ड्स के उपयोग से सर्च इंजन को आपका content और ज़्यादा relevant लगेगा जिससे वो आपके ब्लॉग को ऊपर रैंक कराएगा ।

Keyword Research करना एक बहुत ही महत्वपूर्ण कार्य है। एक अच्छा keyword आपकी ज़िंदगी बदल सकता है। इसलिए आपको Keyword researching के बारे में अच्छे से सीखना होगा, आपको अपना ज़्यादा से ज़्यादा समय keyword researching और anyalysing में देना होगा ।

साथ ही साथ आपको keyword research करते समय उस कीवर्ड की difficulty/ competetion , Volume, CPC, SERP, Trend,  इन सब चीजों पर विशेष dhyaan देना है, क्योंकि एक अच्छा कीवर्ड इन सब तथ्यों के आधार पर ही चुना जा सकता है।

Keyword रिसर्च के लिए आपको कई free tools मिल जाएंगे, जिनका उपयोग आप अपने blogging कैरियर के शुरुआत में कर सकते हैं जैसे-

  1. Google keyword planner
  2. Ubersuggest ( developed by one of the greatest digital marketer – Neil Patel )
  3. Keywordtool.io
  4. Semscoop

इन सभी कीवर्ड रिसर्च टूल्स का प्रयोग करके आपको एक हद तक keyword ideas तो मिल जाएंगे लेकिन, इन सभी टूल्स के साथ एक प्रॉब्लम है, क्योंकि यह सभी फ्री हैं तो आपको इनमे कई limitations मिलेंगी जैसे कि-

  1. No accurate data
  2. Less keyword ideas
  3. इनमे से कुछ केवल एक निर्धारित समय के लिए ही मुफ्त होंगे, उसके बाद आपको पैसे देने होंगे।

अगर आप अपने blogging career को seriously लेना चाहते हैं, तो आपको एक अच्छा keyword research टूल खरीदना ही होगा। अब जो premium research tools होते हैं, वह काफी महँगे होते हैं, जिनको केवल एक बड़ा ब्लॉगर, या फिर जिनके पास एक अच्छा-खासा budget हो उन्हें ही खरीदना चाहिए, लेकिन अगर आपने शुरुआत ही कि है, तो आप free वालों का भी उसे कर सकते हैं ।

Read Also = DP Full Form

Ahref और Semrush – यह दोनों सबसे अच्छे Paid SEO कीवर्ड Reseach टूल्स हैं।

5. CONTENT is the KING :

जी हाँ, आपका content ही king है। एक अच्छे और unique content के बिना रैंक करना लगभग नामुमकिन है। आपका content बिल्कुल genuine और यूनिक होना चाहिए।

Content आपके द्वारा ही लिखा होना चाहिये, plagiarism जितना कम हो उतना अच्छा।

आपको एक ऐसा Content लिखना है जो reader को कोई value add करता हो, google भी ऐसे ही Content को ज़्यादा तवज्जो देता है।

आपको अपने Content में आपने कीवर्ड्स की प्लेसमेंट सही रखनी है। आर्टिकल की शुरुआत में आपके main keywords का इस्तेमाल होना चाहिए.

और इसके अलावा आपको अपने content में Headings का सही से उपयोग करना आना चाहिए.

H1, H2, H3, Bold keywords etc. इन सभी का होना ज़रूरी है, और आप इनमें अपने Keywords का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

Read Also = पॉलिटेक्निक (Polytechnic) क्या है कैसे करे?

साथ ही साथ आपको अपने Content को ज़्यादा informative बनाना है, और आपके आर्टिकल की length 1000 से ज़्यादा words की होनी चाहिए।

साथ ही साथ, आपका content में plaigiarism- यानी copied content बिल्कुल भी नहीं होना चाहिये । अगर आपका content copied हुआ, तो सर्च इंजन इसे ignore करदेगा और आपको रैंकिंग नही मिलेगी।

आपके कंटेंट में spelling और grammar की mistakes जितनी कम हो उतना अच्छा है। इससे search engine को आपका content professional लगता है और फिर वो इसे ज़्यादा से ज़्यादा ऊपर रैंक करवाता है।

आगर आप English में content लिखते हैं, तो आपको grammarly tool का उपयोग करना चाहिए, इससे आपको plagiarism और grammar ठीक करने में मदद मिलेगी।

6. Image Optimisation :

आपको अपने Content में Images का उपयोग भी करना है, इससे यूजर को आपका आर्टिकल attractive लगता है और इससे आपका bounce rate भी कम होता है, जिससे Rankings में बहोत सुधार होता है।

आपको उन Images का optimisation भी achche से करना चाहिए। Images Copyrighted नही होनी चाहिए और उनका size 100kb से कम होना चाहिए, जिससे आपके site की loading स्पीड भी बढ़ेगी।

साथ ही साथ, images copyrighted नही होनी चाहिए, इससे आप google की policies को violate करेंगे, इसलिए हो सके तो ज़्यादा से ज़्यादा non copyrighted images का use करें, आपको ऐसी images pexels. com से मिल सकती हैं जो कि बिल्कुल फ्री है।

आपको अपनी इमेज के title और alt tag में अपने keywords का उपयोग करना चाहिए।

7. Permalinks : आपकी पोस्ट का यूआरएल

आपको अपने article या पेज के टाइटल का भी SEO करना है।

अपने article के URL में main keyword use करना है। आपने URL को जितना छोटा रखें उतना अच्छा है।

Off-Page SEO in Hindi

Off-Page SEO में आपको Backlinks और social media sharing करनी पड़ती है। इसका आपके ब्लॉग से कुछ लेना देना नही होता। आप यह या तो किसी दूसरी साइट पर करते हैं या फिर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर, तभी इसे Off-Page SEO कहता हैं।

Off-Page SEO से आपके साइट की अथॉरिटी बढ़ती है, जिससे आपको SERP में फायदा मिलता है और आपकी ranking अच्छी होती है।

1. Backlinks :

Backlinks दरअसल वो links होते हैं जो कि आपको दूसरी sites से मिलते हैं, जिनपर click करके user उस site से आपकी साइट पर आता है।

Backlinks बनाने के लिए अनेक तरीके होते हैं, जिनमे कुछ आपकी site पर negetive effect भी डालते हैं, जैसे कि NoFollow Backlinks.

आपको अपनी site पर अच्छे authority sites से dofollow backlinks बनाने हैं, जिसके लिए आप Guest Posting और दूसरे ब्लोग्स के owner के साथ पार्टनरशिप करके कर सकते हैं।

Backlinks बनाने के और भी कई तरीके होते हैं, जैसे कि

  1. forum में जाकर अपने आर्टिकल के लिए backlinks लेना
  2. profile building
  3. link building
  4. directory submission
  5. दूसरे bloggers से बकलिंक्स मांगना।
  6. Quora जैसी question answer साइट में जाकर answer देके , वहां अपनी सिटेबक लिंक छोड़ना
  7. Social-Media

Technical SEO in Hindi

Website या blog के backend पर काम करना technical SEO कहलाता है।

Technical SEO से website का user experience improve होता है और साथ ही में इससे आपकी Rankings में काफी सुधार आता है।

Technical SEO के कुछ प्रकार नीचे दिए गए हैं

1. Page Speed :

आपके वेबसाइट की लोडिंग स्पीड जितनी बेहतर हो उतना अच्छा है। अगर आपकी साइट लोडिंग होने में ज़्यादा समय लेती है तो यूजर वहां से जल्दी चला जाता है जिससे bounce rate काफी बढ़ जाता है।

Page Speed को बढ़ाने के लिए आपको image optimisation करना है और अपनी site से फालतू के widgets हटा देने है। साथ ही में आपको एक SEO FRIENDLY THEME का उपयोग भी करना है।

आप अपनी site की स्पीड चेक करने के लिए Google का Page Speed Insights टूल का उपयोग कर सकते हैं।

Read Also = PayManager

2. Mobile Friendly Site :

आपको अपनी साइट को Mobile फ्रेंडली बनाना है। आजकल ज़्यादातर लोग मोबाइल से ही कंटेंट पढ़ते हैं, इसलिए Google भी Mobile Friendly Sites को ज़्यादा तवज्जो देता है।

इसके लिए आप mobile friendly themes का उपयोग कर सकते हैं।

3. Google Search Console :

आपको अपनी साइट को google search console में verify कराना होता है, अजर फिर उसमें अपना sitemap सबमिट करके अपनी पोस्ट को index कराना होता है।

साइट को बिना search console में सबमिट करें, आपकी साइट रैंक होना लगभग नामुमकिन है, इसलिए साइट बनाते ही, आपको इसे search कंसोल और google webmaster में submit करना होता है।

4 thoughts on “SEO in Hindi? SEO Kya Hai? 100+ Best Tips”

कृपया अपना महत्वपूर्ण विचार अवश्य दें!!

%d bloggers like this: